home page

इंडियन रेलवे का 170 साल पुराना इतिहास, जो है अनसुना और अनकहा

इंडियन रेलवे का इतिहास :भारतीय रेलवे का 170 साल पुराना इतिहास है। लोग अभी भी परिवहन के इस सस्ते साधन का उपयोग करते हैं क्योंकि यह विश्वसनीय है।
 | 
india first rail and railways

भारतीय रेलवे का इतिहास

भारत के पास दुनिया का सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है। भारतीय रेलवे में हर दिन लाखों लोग यात्रा करते हैं, जिसका सदियों पुराना इतिहास है। रेलवे के बारे में कई ऐसी कहानियां हैं जो लोग नहीं जानते हैं। आइए आपको बताते हैं ऐसी ही कुछ अनसुनी कहानियों के बारे में। भारत में कनेक्टिविटी की शुरुआत रेलवे से हुई और यह आज भी पर्यटकों के लिए यात्रा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। क्या आप जानते हैं कि भारतीय रेलवे का 170 साल का इतिहास क्या है और ज्यादातर लोग अभी भी यात्रा के इस सस्ते साधन का इस्तेमाल क्यों करते हैं? इतने सालों के बाद भी लोगों का रेलवे पर भरोसा है।

india first rail

रेलवे की शुरुवात 

भारतीय रेलवे के पीछे के इतिहास को समझने के लिए, आपको यह जानना होगा कि भारत में पहली यात्री ट्रेन कब शुरू हुई थी। भारत में पहली पैसेंजर ट्रेन 170 साल पहले 16 अप्रैल को शुरू हुई थी। मुंबई से ठाणे जाने वाली ट्रेन में 400 यात्री सवार हुए। और सबसे अनोखी बात की इस दिन को सार्वजनिक अवकाश घोषित किया गया है।

इंडिया का पहला रेल्वे स्टेशन 

भारत का पहला रेलवे स्टेशन मुंबई में स्थित बोरीबंदर था। भारत में पहली पैसेंजर ट्रेन 1853 में बोरीबंदर से ठाणे तक चली थी। इसे ग्रेट इंडियन पेनिनसुलर रेलवे ने बनाया था। बाद में, 1888 में, रानी विक्टोरिया के बाद, स्टेशन का पुनर्निर्माण किया गया और विक्टोरिया टर्मिनस का नाम बदल दिया गया। यह जानकारी आपको सोशल मीडिया पर आसानी से नहीं मिलेगी।

इंडिया का पहला रेल 

भारत में पहली ट्रेन रेड हिल रेलवे थी। यह 1837 में रेड हिल्स से चिंताद्रिपेट पुल तक चली थी। सर आर्थर कॉटन ने ट्रेन का निर्माण किया था। लोग इसका उपयोग ग्रेनाइट के परिवहन के लिए करते थे।