home page

राजकुमार राव ने कहा वो कभी खुदको गुड लुकिंग समझते ही नहीं थे, पता नही कैसे बन गए हीरो।

 | 
rajkumar rao

फिल्म मोनिका - ओ माय डार्लिंग 11 नवंबर को रिलीज होने वाली है. अपने शुरुआती दिनों को, याद करते हुए उन्होंने कहा कि शुरुआत के दिनों में उन्हें सपोर्टिव रोल मिल रहा था।

लेकिन दिबाकर बनर्जी जी को उनमें एक हीरो दिखा फिल्म 'मोनिका ओह माय डार्लिन' 11 नवंबर को रिलीज होने वाली है।

राजकुमार राव, राधिका आप्टे और हुमा कुरैशी ने फिल्म के निर्देशक वासन बाला के साथ एक साक्षात्कार में भाग लिया, जहां उन्होंने पारंपरिक बॉलीवुड रूढ़ियों को तोड़ने पर खुलकर चर्चा की। साथ ही राजकुमार राव ने अपने शुरुआती संघर्ष की भी बात की।


   राजकुमार के पास है कई फिल्में

राजकुमार राव के पास इस समय काफी फिल्म है जिसपर वो काम कर रहे है इसमें भीड़ फिल्म और धर्म प्रोडक्शन की, मिस्टर एंड मिसस माही है। अगर आप राजकुमार राव की बात करे तो ओ अपने हर नए किरदार से अपने फैंस को इंप्रेस करते है।

उन्होंने कहा कि मैं फिल्मों को चुनना प्रेफर करता हूं जो मेरे दिल के बेहद करीब होती है वही करता हूं। मैं सोचता हूं की मैं ऐसा फिल्म करु जिसपर मुझे गर्व महसूस हो,उन्होंने कहा कि मैं ऐसा बिल्कुल भी नही सोचता की फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कैसा परफॉर्म करेगी, मैं ऐसा काम करता हूं जिसको करके मुझे खुद पर गर्व महसूस होता है। 

आज भी लोग मेरी फिल्म न्यूटन की तारीफ करते हैं।

      मुश्किल रहा स्ट्रगल

शुरुआती दिनों पर बात करते हुए राजकुमार राव ने कहा कि मेरा स्ट्रगल काफी रहा है. जब मैं शुरुआती दिनों में ऑडिशन्स देने जाता था तो मुझे केवल साइड और सपोर्टिव रोल्स ऑफर होते थे. 

कोई मुझे हीरो का रोल ऑफर नहीं करता था. डायरेक्टर दिबानकर बनर्जी ने पता नहीं मेरे अंदर क्या देखा जो मुझे बतौर हीरो फिल्म ऑफर  की.

उसके बाद से मेरी किस्मत बदलती चली गई. मैं खुद को गुड लुकिंग तक नहीं मानता. न ही यह सोचता हूं कि मैं एक कमरे में सबसे लंबा लड़का दिखता हूं. मैं बस खुद के लिए यह मानता हूं कि मैं हार्ड वर्किंग हूं. 

यह एक ऐसी चीज है जो मेरे अंदर रहेगी. यह कोई मेरे से नहीं छीन सकता. काम के प्रति मेरा प्यार मुझे आगे चलाता रहेगा. मेरा काम मेरे लिए रहेगा. हमेशा मेरे साथ रहेगा. बस मैं इतना जानता हूं. और काम ही करना मुझे पसंद है.